Bulleya Lyrics In Hindi/English

7:58:00 PM Rahul Gawale 0 Comments



Hindi 
मेरी रूह का परिंदा फड़फड़ाये,
लेकिन सुकून का जज़ीरा मिल न पाए
वे कीं करां वे कीं करां

इक बार को तजल्ली तो दिखा दे
झूठी सही मगर तसल्ली तो दिल दे
वे कीं करां, वे कीं करां



रांझन दे यार बुल्लेया
सुनले पुकार बुल्लेया,
तू ही तो यार बुल्लेया
मुर्शिद मेरा मुर्शिद मेरा,
तेरा मुकाम कमले
सरहद के पर बुल्लेया,
फरवरदिगार बुल्लेया,
हाफिज तेरा, मुर्शिद तेरा।

मैं काबुल से लिपटी तितली की तरह मुहाजिर हूँ
एक पल को ठहरू पल में उड़ जाऊ,
वे मैं तां हु पगडंडिया लभदी जो ए  राह जन्नत दी

तेरे कारवां में शामिल होना चाहुँ
कमिया तराश के मैं काबिल होना चाहूँ
वे कीं करां, वे कीं करां

रांझन दे यार बुल्लेया
सुनले पुकार बुल्लेया,
तू ही तो यार बुल्लेया
मुर्शिद मेरा मुर्शिद मेरा,
तेरा मुकाम कमले
सरहद के पर बुल्लेया,
फरवरदिगार बुल्लेया,
हाफिज तेरा, मुर्शिद तेरा।

राँझना वे...
राँझना वे..

जिस दिन से आशा से दो अजनबी हुवे है,
तन्हाइयो के लम्हे सब मतलबी हुवे हैं,
क्यों आज मोहब्बत फिर एक बार करना चाहूँ
है......

ये दिल तो ढूंढता है इंकार के बहाने
लेकिन ये जिस्म कोई पाबंदिया न माने
मिलके तुझे  बगावत खुद से ही यार करना चाहूँ

मुझमे अगन है बाकि आज़मा ले
ले कर रही हूँ मैं खुद को तेरे हव्वाले
वे रांझना वे रांझना

रांझन दे यार बुल्लेया
सुनले पुकार बुल्लेया,
तू ही तो यार बुल्लेया
मुर्शिद मेरा मुर्शिद मेरा,
तेरा मुकाम कमले
सरहद के पर बुल्लेया,
फरवरदिगार बुल्लेया,
हाफिज तेरा, मुर्शिद तेरा।
राँझना वे...
राँझना वे..

English 
Meri rooh ka parinda phadphadaye
Lekin sukoon ka jazeera mil na paaye
Ve ki karaan..Ve ki karaan..
Ik baar ko tajalli toh dikha de
Jhoothi sahi magar tasalli to dila de
Ve ki karaan..
Ve ki karaan..
Raanjhan de yaar Bulleya
Sunle pukaar Bulleya
Tu hi toh yaar Bulleya
Murshid mera, murshid mera
Tera mukaam kamle
Sarhad ke paar Bulleya
Parvardigar Bulleya
Haafiz tera, murshid mera .....2

Main Kabul se lipti titli ki tarah muhajir hoon
Ek pal ko thehru, pal mein udd jaaun
Ve main tan hoon pagdandi labhdi ae jo raah jannat di
Tu mude jahan main saath mud jaaun
Tere kaarvan mein shamil hona chahun
Kamiya taraash ke main qaabil hona chahun
Ve ki karaan..
Ve ki karaan..
Raanjhan de yaar Bulleya
Sun le pukaar Bulleya
Tu hi toh yaar Bulleya
Murshid mera, murshid mera
Tera mukaam kamle
Sarhad ke paar Bulleya
Parvardigar Bulleya
Haafiz tera, murshid mera .....2 
Raanjhana ve…
Raanjhana ve…
Jis din se aashna se do ajnabi huve hain
Tanhaiyon ke lamhe sab multabi huve hain
Kyun aaj main mohabbat
Phir ek baar karna chahun
Haan…
Ye dil toh dhoondhta hai inkaar ke bahane
Lekin ye jism koi pabandiyan na maane
Milke tujhe bagawat
Khud se hi yaar karna chahun

Mujhme agan hai baaki aazma le
Le kar rahi hoon main khud ko tere hawale
Ve Raanjhna…
Ve Raanjhna…
Raanjhan de yaar Bulleya
Sunle pukaar Bulleya
Tu hi toh yaar Bulleya
Murshid mera, murshid mera
Tera mukaam kamle
Sarhad ke paar Bulleya
Parvardigar Bulleya
Haafiz tera, murshid mera .....2 
Murshid mera, murshid mera…

0 comments :