Raatein Lyrics | Shivaay | In Hindi | Ajay Devgan

10:17:00 AM Rahul Gawale 0 Comments


रातें तेरे सिरहाने
बुरे सपनो के बहाने
जागते जागते काट ली

चुप से तेरी बातें
बुनती हूँ यदि
आधी आधी बनती सी

है मुश्किल ये जहाँ
रुकी ज़िन्दगी रवां
इक मैं हूँ और एक तू है बस यहाँ 
हे.. या हे.. या हे.. या हे.. या 

ख़ामोशी को पढ़ लूँ मैं
हर्फ़ हर्फ़ जोड़ लू मैं
बिन कहे कुछ मुझे समझाये

खोयी नींदो को
तेरे ख्यालों की उँगलियाँ
हलके से धीमे से गुदगुदाये

है मुश्किल ये जहाँ
रुकी ज़िन्दगी रवां
इक मैं हूँ और एक तू है बस यहाँ 
हे.. या हे.. या हे.. या हे.. या 

अंधेरों की ये पहेलियाँ
धुप तेरी से हो जाये धुआं
तुझ्झे मिले है रंग जहाँ के
होने तेरे से है होना मेरा

Raatein tere sirhaane
Bure sapno ke bahane
Jaagte, jaagte, kaatli

Chup se teri baatein
Bunti hoon yaadein
Adhi adhi baant li

Hai kaisa yeh jahaan
Ruki zindagi ravaan
Ik main hoon aur ik tu hai bas yahaan

Hey ya, hey ya, hey ya, hey ya.. hey ya


Khoyi neendon ko
Tere khayalon ki ye ungliyan
Halke se, dheeme se, gudgudaye jo

Khamoshi ko padh loon main
Harf harf jad loon main
Bin kahe kuch mujhe samjhaye toh

Hai kaisa yeh jahaan
Ruki zindagi ravaan
Ik main hoon aur ik tu hai bas yahaan

Hey ya, hey ya, hey ya, hey ya.. hey ya

Andheron ki ye paheliyan
Dhoop teri se ho jaaye dhuan
Tujhse mile hain rang jahaan ke
Hone tere se hai hona mera

Hai kaisa yeh jahaan
Ruki zindagi ravaan
Ik main hoon aur ik tu hai bas yahaan

0 comments :